Motivational story in hindi कभी किसी को जज मत करो ।

कभी किसी को जज मत करो

(Motivational story in hindi)

Motivational story in Hindi – Hello, आज मैं एक MOTIVATIONAL STORY लेकर आई हूं जो कि आप को motivate करेगी और साथ ही साथ जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए आप को प्रेरित करेगी और आपको यह बताएगी कि आपको जिंदगी में कभी किसी को जज ही करना है क्योंकि जज करने से आगे आपको ही अफसोस होगा ताकि आप जिंदगी में हमेशा ऊपर की तरफ बढ़े है।यह कहानी आपको ज़िन्दगी में हमेशा खुश रहना सिखा देगी। Best motivational story

एक डाक्टर अपने अस्पताल में जल्दबाजी में एक तत्काल सर्जरी के लिए आया , उसने अपने कपड़े बदले और सर्जरी ब्लॉक(Surgery Block) में गया । वहां लड़के के पिता को उसने डॉक्टर का इंतजार करते हुए पाया।

डॉक्टर को देखते ही,”लड़के के पिता ने कहा,”आप इतना late क्यू आए , क्या आपको अपनी जिम्मेदारी का कुछ भी एहसास नहीं है?
डॉक्टर ने मुस्कुराते हुए उससे माफी मांगी और कहा कि मैं अस्पताल में नहीं था , मुझे जैसे ही कॉल(call) आया मैं तुरंत रवाना हो गया । अब आप शांत रहे और मुझे मेरा काम करने दें।

Motivational story in hindi कभी किसी को जज मत करो ।

लोग किसी को ऐसे जज करते हैं जैसे कोई गुनाह किया हो आप उसके मूर्जीम हो कभी खुद को भी जज करके देखो गुनाहों का देवता लगोगे .
लोग किसी को ऐसे जज करते हैं जैसे कोई गुनाह किया हो आप उसके मूर्जीम हो कभी खुद को भी जज करके देखो गुनाहों का देवता लगोगे .

लड़के के पिता ने गुस्से में कहा शांत क्यों हो जाऊं ! मेरा बेटा है यदि आपका बेटा ऐसी स्थिति में होता , तब आप क्या करते ।

कुछ घंटे की सर्जरी के बाद वह बेटा बच गया , डॉक्टर बाहर आकर लड़के के पिता को यह बात बताया और बोला कि आपको यदि कुछ पूछना हो तो नर्स से पूछ लेना । बिना कुछ सुने निकल गया।

लड़के के पिता ने नर्स से Doctor की तरफ इशारा करते हुए कहा , यह डॉक्टर इतना घमंडी क्यूं है , थोड़ा भी नहीं रुका कि मैं अपने बेटे की स्थिति के बारे में उससे पूछ लूं।

Hindi Kahani : इन कहानियों को भी ज़रूर पढ़ें:

हालातो से कैसे जीते ।

साहस के साथ जीवन में कदमों को आगे बढ़ाएं । 

एक संघर्ष जीवन का ।

अपने लक्ष्य को कैसे प्राप्त करें ।

 

नर्स ने उस आदमी को उत्तर दिया कि कल डॉक्टर साहब के बेटे का एक्सीडेंट(Accident) में निधन हो गया है और आज उनके बेटे का अंतिम संस्कार था । हमने उन्हें फोन करके जब बुलाया , तब वह अंतिम संस्कार को छोड़कर आपके बेटे की सर्जरी करने के लिए आए ।

यह सुनते ही वह आदमी पानी-पानी  हो गया और वह शर्म से लाल हो गया । अंत में उसे अपनी गलती का बहुत अफसोस था।

Moral of this story:

इसलिए कहते हैं दोस्तों कभी किसी को अपने हिसाब से जज मत करो , क्योंकि कोई भी इंसान किस हालात में है यह आप नहीं जानते और ना ही समझ सकते हैं तो किसी को सिर्फ अपने हालात देखकर जज ना करें। आज इस पोस्ट को लाइक के साथ शेयर जरुर करना । ताकि लोग यह कहानी पढ़कर किसी के साथ ऐसी गलती ना करें ।

दोस्तो , उम्मीद करती हूं कि आपको यह कहानी  “Motivational story in hindi कभी किसी को जज मत करो।”पसंद आई होगी। मेरी इस कहानी से आपने काफ़ी कुछ सीखा होगा कृपा Comment करके जरूर बताएं।  नीचे दिए गए EMOJI पर क्लिक करके आप इस पोस्ट को लाइक कर सकते हैं। Bell icon  आइकन पर क्लिक करे और नए पोस्ट को सबसे पहले पाए। ऐसी ही  Hindi story के लिए कृपया इस पोस्ट को शेयर करे और हम से जुड़े रहे ।

यदि आप इस ब्लॉग पर हिंदी में अपना कोई आर्टिकल या जो भी जानकारी Share करना चाहते हैं  (Guest Post) तो कृपया अपनी पोस्ट    E-mail करें. Id है – ‘[email protected]’ पसंद आने पर आपकी पोस्ट zindagiup.Com प्रकाशित की जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!